ad

रामायण चौपाई हिंदी अर्थ सहित | Ramayan Chaupai in Hindi

रामायण चौपाई

ramayann chaupai in hindi, ramayan chaupai, rm charitra manas chaupai, chaupai of ramayan in hindi, ramayan chaupai hindi arth sahit


बिनु सत्संग विवेक न होई। राम कृपा बिनु सुलभ न सोई।।
सठ सुधरहिं सत्संगति पाई। पारस परस कुघात सुहाई।।

अर्थ : सत्संग के बिना विवेक नहीं होता और राम जी की कृपा के बिना वह सत्संग नहीं मिलता, सत्संगति आनंद और कल्याण की जड़ है। दुष्ट भी सत्संगति पाकर सुधर जाते हैं जैसे पारस के स्पर्श से लोहा सुंदर सोना बन जाता है।
  -रामचरितमानस


➭ प्रेणनादायक संस्कृत श्लोक (हिंदी अर्थ सहित)

यह संस्कृत के श्लोक आपको कैसे लगे, हमें कमेंट करके बताएं। यदि आप मोटिवेशनल स्टोरी या मोटिवेशन कोट्स हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं, तो ईमेलआईडी motivatorindia24@gmail.com पर भेजें हम आपके इस जानकारी को इस वेबसाइट के माध्यम से लोगों तक पहुंचाएंगे
धन्यवाद

Post a Comment

7 Comments