जीवन पर आधारित गजल | सूरज जो सवेरे था वही शाम नहीं है

जीवन पर आधारित गजल

ghazal, gajal, ghazal in hindi, best ghazal, bal swaroop rahi ghazal, gazal video, gazal, motivational ghazal, gajal on life, suraj jo sawere tha wahi sham nhi hai

इतना बुरा तो तेरा भी अंजाम नहीं है
सूरज जो सवेरे था वही शाम नहीं है

पहचान अगर बन न सकी तो फिर क्या ग़म
कितने ही सितारों का कोई नाम नहीं है

आकाश भी धरती की तरह घूम रहा है
दुनिया में किसी चीज़ को आराम नहीं है

मत सोच कि क्या तूने दिया तुझको मिला क्या
शायर है जमा-ख़र्च तेरा काम नहीं है

ये शुक्र मना इतना तो इंसाफ़ हुआ है
तुझ पर ही तेरे क़त्ल का इलजाम नहीं है

माना वो मेहरबान है सुनता है सभी की
मत भूल कि उसका भी करम आम नहीं है

उठने दे जो उठता है धुआँ दिल की गली से
बस्ती वो कहाँ है जहाँ कोहराम नहीं है

टपकेगा रुबाई से तेरी ख़ून या आँसू
राही है तेरा नाम तू ख़ैयाम नहीं है।
- बाल स्वरूप राही

Video of this Gajal (Bal Swaroop Rahi)


हमें उम्मीद है हिंदी गजल (Ghazal in Hindi) आपको पसंद आई होगी। अपने विचार हमें कमेंट करके हमें जरूर बताएं।
धन्यवाद

Post a Comment

4 Comments