सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक कहानियां हिन्दी में | Top 5 Motivational Story in Hindi

सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक कहानियां हिन्दी में | Top 5 Motivational Story in Hindi

motivational stories in hindi, motivational story in hindi, best motivational story in hindi, motivational story in hindi for success, motivational story in hindi for students, motivational story for students in hindi, best motivational story in hindi, motivational kahani, motivational kahani in hindi, motivational story hindi, hindi motivational story, motivational short stories in hindi


आज आप ऐसे पांच बेहतरीन प्रेरणादायक कहानियां पढ़ने जा रहे हैं जो आपके जीवन को एक नई दिशा देने का काम करेगी। यह मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं की यदि आप इन सभी मोटिवेशनल स्टोरीज (Motivational Story) को ध्यान पूर्वक पढ़ते हैं और इन कहानियों से मिलने वाले शिक्षा को ग्रहण करते हैं। तो यह मोटिवेशनल स्टोरीज अवश्य ही आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लायेंगे।

Motivational Story in Hindi #1

बाज और मुर्गे की कहानी (Story of Cock and Eagle):

motivation kahani hindi, motivation kahani, inspirational story in hindi, real life inspirational stories in hindi, short motivational story in hindi, motivational kahani, motivational kahani in hindi

एक जंगल में बाज अपने बच्चे को उड़ना सिखा रहा था, तभी बाज का बच्चा लड़खड़ा कर मुर्गे की झुंड में गिर जाता है, और वह मुर्गी के बच्चों के साथ ही रहना प्रारंभ कर देता है, उन्हीं के जैसे जमीन पर चलता है, उन्हीं के साथ कीड़े मकोड़े खाता है, तथा उन्हीं के जैसा जीवन यापन करने लगता है। इसी प्रकार धीरे-धीरे समय बीतता जाता है, और वह बाज का बच्चा बड़ा हो जाता है।
एक बार वह आसमान में अपने जैसे पक्षी को यानि बाज को उड़ते हुए देखता है, तभी वह दौड़कर मुर्गी के पास जाता है और मुर्गी से पूछता है, मां मेरे जैसा एक पक्षी आसमान में उड़ रहा है, और मैं क्यों नहीं उड़ रहा? तभी मुर्गी बाज का जवाब देते हुए कहती है- "बेटा हम रेंगने के लिए पैदा हुए हैं, उड़ने के लिए नहीं।" यह सुनकर बाज बहुत निराश होता है और वह यह मान लेता है कि मैं उड़ नहीं सकता। और वह पूरा जीवन जमीन पर रेंगते हुए बिताता है। और जमीन पर रेंगते हुए ही मर जाता है, परंतु अपनी पूरी जिंदगी में कभी उड़ नहीं पाता। क्योंकि उसे यह विश्वास हो चुका होता है कि मैं उड़ने वाला पक्षी नहीं हूं।" 

इसीलिए कहा गया है:

मंजिले उन्ही को मिलती है,
जिनके सपनों में जान होती है।
पंख से कुछ नहीं होता,
हौसलों से उड़ान होती है।

 Motivational Story in Hindi for Success #2 

हाथी की कहानी (Story of Elephant🐘):

story of elephant, motivational story hindi, motivational story in hindi for success, hindi motivational story, motivational short stories in hindi, hindi motivational short story, motivational stories in hindi, hindi motivational stories, best motivational stories in hindi, hindi best motivational story

एक बार एक महावत जंगल से एक हाथी के बच्चे को पकड़ कर लाता है, तथा उसे एक सिक्कर से पेड़ में बांध देता है। वह हाथी का बच्चा उसे तोड़ने की बहुत कोशिश करता है। उसके गर्दन में घाव हो जाता है, खून निकल आता है। परंतु वह उस सिक्कर को नहीं तोड़ पाता। धीरे धीरे वह हाथी का बच्चा एक विशाल हाथी बन जाता है, और महावत उसे एक पतली रस्सी से पेड़ में बांध देता है।
सोचने वाली बात तो यह है कि हाथी उस पतली रस्सी को भी तोड़ नहीं पाता, क्योंकि उसके दिमाग में यह बात बैठ चुकी होती है, कि "मैं कितना भी मेहनत कर लूँ पर मैं इसे तोड़ नहीं सकता।" परंतु यदि वह एक बार और प्रयास करता तो उस रस्सी को अवश्य ही तोड़ देता। वह रस्सी ही नहीं बल्कि पूरे पेड़ को जड़ सहित उखाड़ कर फेंक सकता था और उस बन्धन से आजाद हो सकता था। लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है. कि हमें कभी हार नहीं मानना चाहिए। हमें हमेशा प्रयास करते रहना चाहिए। इंसान जो कुछ भी चाहे उसे पा सकता है, परंतु बस उसे अपने आप भरोसा होना चाहिए और अपनी क्षमताओं का ज्ञान होना चाहिए।

Best Motivational Story in Hindi #3

खरगोश और कुत्ते की कहानी (Story of Rabbit 🐇 and Dog 🐕):

motivational story in hindi for success, rabbit and dog story, story of rabbit and dog, success motivational story in hindi, hindi motivational story for success, inspirational story for success, best motivational story for success, short motivational story, top motivational story in hindi

एक समय की बात है। खरगोश जंगल में घूम रहा होता है, और एक कुत्ते को बहुत तेज भूख लगी होती है। अचानक कुत्ते की नजर खरगोश पर पड़ती है, और वह खरगोश को खाने के लिए दौड़ता है। खरगोश अपनी जान बचाने के लिए वहां से भागता है, कुत्ता उसके पीछे पीछे दौड़ता है। खरगोश और तेज भागता है कुत्ता भी तेज दौड़ने लगता है, काफी समय तक भागने के बाद खरगोश दौड़ते दौड़ते जाकर एक बिल में घुस जाता है, और कुत्ता उस बिल के पास आकर खड़ा हो जाता है।
थोड़ी देर बाद खरगोश बिल से बाहर देखता है, तो कुत्ता हाफ रहा होता है। खरगोश को देखकर कुत्ता उससे कहता है- मैं शरीर में तुझसे बड़ा हूं। मैं तुझसे ताकतवर भी हूं, तुझसे तेज दौर भी सकता हूं, मगर तू मुझे यह बता कि मैं तुझे पकड़ क्यों नहीं पाया? खरगोश जवाब देते हुए कहता है- तुम केवल अपनी भूख मिटाने के लिए दौड़ रहे थे, और मैं अपनी जिंदगी बचाने के लिए दौड़ रहा था, इसलिए मैं जीत गया और तुम हार गए। हमारी जीत होगी या हार। यह इस बात पर निर्भर करता है की हम उस काम को अपने जीवन में कितना महत्व देते है। 


Motivational Story in Hindi for Students #4

एक बाप और बेटे की कहानी (Story of Father, Son and Donkey):

story of father son and donkey, story of man boy and donkey, boy man and donkey story in hindi, hindi, motivational story in hindi, best motivational story for student, motivational story for student in hindi, hindi motivational story, hindi inspirational story for student, motivational short story in hindi, short story for student

एक बार बाप और बेटे ने एक गधा खरीदा। और वह उसे लेकर चल दिए। बाप ने बेटे को गधे पर बैठा दिया और अपने पैदल चलने लगा। यह देख वहां उपस्थित कुछ लोग आपस में बात करने लगे, कि कैसा बेटा है, जो बाप को पैदल लेकर जा रहा है, और अपने गधे पर बैठा हुआ है।
यह सुनकर बेटा गधे से उतर गया और पिताजी को गधे पर बैठा दिया और चलने लगा। कुछ दूरी चलने के बाद फिर कुछ लोग मिले। जो कहने लगे- कैसा बाप है जो स्वयं गधे पर बैठा हुआ है और बेटे को पैदल लेकर जा रहा है। यह सुनकर बाप बेटे दोनों ही उस गधे पर बैठ गए और आगे बढ़े। कुछ देर बाद फिर कुछ लोग मिले, जो बाप बेटे को गधे पर बैठा देखकर कहने लगे कि ये कैसे निर्दई लोग हैं, जो एक ही गधे पर दोनों सवार हो गए हैं, लगता है गधे की जान लेंगे। यह सुनकर बाप बेटे दोनों ही गधे से उतर गए। और गधे को कंधे पर टांग लिया और चलने लगे।
कुछ दूर जाने के बाद उन्हें फिर कुछ लोग मिलते हैं, और उन्हें देखकर हंसने लगते हैं और कहते हैं- यह दोनों कितने पागल हैं जो गधे पर बैठने की बजाय उसे ही टांग कर ले जा रहे हैं। यह सुनकर बाप बेटे गधे को नीचे उतार देते हैं और यह समझ जाते हैं कि उन्हें अपने समझदारी से काम लेना चाहिए। लोगों की बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए, क्योंकि लोग हर एक परिस्थिति में कुछ ना कुछ कमी अवश्य ही ढूंढ लेते हैं।
इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हम चाहे कितना भी अच्छा कार्य क्यों न करें, लोग उसमें गलतियां अवश्य निकालेंगे। लोगों का काम ही यही है। अतः हमें इनकी बातों को नजर नजरअंदाज करके जीवन के कर्तव्य पथ पर अपने विवेक से निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए।
लिखने वाले ने क्या खूब लिखा है-

"कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना" 


Inspirational Story in Hindi #5

एक कौआ की कहानी (Story of one Crow 🐥) : 

story of crow, story of one crow in hindi, motivation kahani hindi, motivation kahani, inspirational story in hindi, real life inspirational stories in hindi, short motivational story in hindi, motivational kahani, motivational kahani in hindi, motivational story hindi, hindi motivational story, motivational short stories in hindi, hindi motivational short story, motivational stories in hindi, hindi motivational stories, best motivational stories in hindi, hindi best motivational story

एक कौआ अपने काले रंग के कारण बहुत निराश था। वह सोचता था की वन के सारे पक्षी उससे अधिक खुश हैं। यह सोच कर वह दुखी मन से तोते के पास जाता है, और तोते से कहता है- तुम्हें भगवान ने कितना सुंदर रंग और शरीर दिया है, लोग तुम्हें पालते हैं। तुम अपनी जिंदगी से बहुत खुश होगे। तोता कौवे की बात सुनकर दुखी होता है और कहता है- नहीं! मैं कहां खुश हूं। भगवान ने मुझे हरे रंग का बनाया। हरा रंग भी कोई रंग होता है  पेड़ पर बैठता हूं, तो पत्तों में ही मिल जाता हूं, और लोग मुझे पकड़ कर पिंजरे में बंद कर देते हैं। भला ऐसी जिंदगी से कोई कैसे खुश हो सकता है।
यह सुनकर कौवा बहुत दुखी होता है और वह मोर के पास जाता है और कहता है- मोर भाई! तुम्हें भगवान ने कितना सुंदर शरीर दिया है, तुम राष्ट्रीय पक्षी भी हो। तुम जब नाचते हो तो लोग तुम्हारी फोटो खींचते हैं, अपनी जिंदगी से तुम कितने खुश होगे। मोर कौवे की बात सुनकर जवाब देता है -अरे नहीं! ऐसा बिल्कुल नहीं है, मैं भले ही राष्ट्रीय पक्षी हूं, लेकिन लोग मुझे चिड़ियाघर में रखते हैं। और जंगल में रहता हूं तो शिकारी मुझे मार डालते हैं और मेरे शरीर से एक-एक पंख नोच कर बाजार में बेच देते हैं, ऐसी जिंदगी से भला मैं कैसे खुश रह सकता हूं। हम सभी से भाग्यशाली और खुश किस्मत तो तुम हो, ना कोई तुम्हें बंधी बनाता है, और ना ही कोई तुम्हें मारता है। तुम बेफिक्र होकर के कितने आजादी के साथ अपना जीवन जीते हो। भगवान ने तुम्हें इतना बेहतरीन जीवन दिया है। यह सुनकर कौवे की आंख खुल जाती है। और उसे यह समझ आ जाता है, कि अपनी तुलना कभी किसी और से नहीं करनी चाहिए। जो भी हमें ईश्वर ने दिया है उसे हमें अपना सौभाग्य समझ कर खुश रहना चाहिए।

हमें पूर्ण विश्वास है कि यह पांच प्रेरणादायक कहानियां आपको अवश्य पसंद आई होंगी। और हमें यह विश्वास भी है की इन कहानियों से आपने बहुत कुछ सीखा भी होगा। इन टॉप फाइव मोटिवेशनल स्टोरीज (Best Motivational Stories in Hindi) के बारे में अपनी राय अवश्य दें। और यदि मोटिवेशनल स्टोरीज आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ नीचे दिए गए व्हाट्सएप फेसबुक के द्वारा शेयर करें।
धन्यवाद


Post a Comment

0 Comments