ad

रावण ने मरते समय लक्ष्मण को तीन बातें बताई थी | What Ravan told Lakshman on his deathbed

रावण ने मरते समय लक्ष्मण को तीन बातें बताई थी | What Ravan told Lakshman on his deathbed in Hindi

what did ravana said to laxman while dying in hindi, what ravan told lakshman on his deathbed, last words of ravana to laxman, what ravana said to laxman in hindi, ravan teachings to laxman in hindi, ravan gyan to laxman, ravan updesh to laxman in Hindi, what ravana told to laxman in hindi, ravan speech to laxman in hindi, ravan ne marte hue laxman ko kya updesh diye

जिस समय रावण मरणासन की अवस्था में धरती पर पड़ा हुआ था, राम ने लक्ष्मण से कहा, राजनीति शास्त्र का महान विद्वान इस दुनिया से विदा ले रहा है, तुम जाकर उस प्रकांड विद्वान से कुछ जीवन की शिक्षा ले लो। भईया की आज्ञा अनुसार लक्ष्मण रावण के सिर के पास जाकर खड़े हो गए।  रावण ने लक्ष्मण से कुछ नहीं कहा,  तब लक्ष्मण वापस भईया राम के पास चले आए।  राम ने इसे देखकर कहा, लक्ष्मण शिक्षा हमेशा गुरु के चरणों के पास ही बैठकर ली जाती है, यह सुनकर लक्ष्मण रावण के पैरों के पास जाकर बैठ गए तब महाज्ञानी तथा प्रकांड विद्वान रावण ने लक्ष्मण को जीवन की तीन अमूल्य बातें बताई ।

rawan gives tree lesson to laxman, what did ravana said to laxman while dying in hindi, what did ravana said to laxman while dying in hindi, what ravan told lakshman on his deathbed, last words of ravana to laxman, what ravana said to laxman in hindi, ravan teachings to laxman in hindi, ravan gyan to laxman, ravan updesh to laxman in Hindi, what ravana told to laxman in hindi, ravan speech to laxman in hindi, ravan ne marte hue laxman ko kya updesh diye, रावण ने मरते समय तीन बातें, रावण ने मरते समय लक्ष्मण से क्या कहा, रावण ने मरते समय लक्ष्मण को तीन बातें बताई थी, रावण ने लक्ष्मण से क्या कहा, रावण ने लक्ष्मण को क्या शिक्षा दी, रावण ने लक्ष्मण को क्या उपदेश दिया

महापंडित रावण ने मरते समय लक्ष्मण को बताई थी ये बड़े काम की 3 बातें 🏹:

१. पहला उपदेश:  रावण ने लक्ष्मण को सबसे पहली बात यह बताई कि शुभ कार्य को जितना जल्दी 🕒 हो सके कर लेना चाहिए। उसके लिए कभी लंबा इंतजार नहीं करना चाहिए, वरना जीवन कब समाप्त हो जाए किसी को पता नहीं। (क्योकि रावण ने कई शुभ कार्यो को किसी कारण वश टाल रखा था,  जिसे वह कभी पूरा नहीं कर पाया।) तथा अशुभ कार्य को जितना टाला जा सके उसे टाल देना चाहिए।


 २. दूसरा उपदेश:  रावण ने लक्ष्मण को दुसरा सबसे महत्वपूर्ण बात बताया कि शत्रु तथा रोग को कभी  छोटा नहीं समझना चाहिए, छोटे से छोटा रोग भी प्राण घातक हो सकता है, तथा छोटे से छोटा शत्रु भी सर्वनाश कर सकता है। रावण ने राम, लक्ष्मण और उनकी वानर सेना को तुक्छ समझा था, और वही रावण के मृत्यु का कारण बने।


 ३. तीसरा उपदेश:  रावण ने लक्ष्मण को तीसरी ज्ञान की बात यह बताई कि, अपने जीवन से जुड़े राज को यथासंभव गुप्त ही रखना चाहिए। उसे किसी भी व्यक्ति से नहीं बतानी चाहिए, चाहे वह अपका सबसे प्रिय क्यों ना हो। यदि वह रहस्य प्रगट हो गया, तो उसका जीवन पर बुरा प्रभाव हो सकता है। रावण के नाभि में अमृत कुंड का रहस्य विभीषण द्वारा प्रगट होने पर ही रावण का वध हुआ।


✍️ रामायण चौपाई हिंदी अर्थ सहित

रावण ने मरते समय लक्ष्मण से क्या कहा था यह आप जान चुके है, रावण द्वारा लक्ष्मण को कहीं गयी ये तीन बातें आज भी हमारे जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। महाज्ञानी की यह तीन बाते आपको कैसी लगी, कृपया नीचे हमें कमेंट करके बतायें
धन्यवाद

Post a Comment

2 Comments